साइन इन
x

आयकर विभाग कभी भी र्इ-मेल के माध्यम से आपके क्रेटिड कार्ड, बैंक अथवा अन्य वित्तीय खातों के पिन नंबर, पासवर्ड अथवा समकक्ष प्रकार की प्रयोग की जा सकने वाली सूचना की मांग नही करता है।

आयकर विभाग की करदताओं से अपील है कि ऐसे-र्इ-मेल का उत्तर न दें तथा अपने क्रेटिड कार्ड, बैंक तथा अन्य वित्तीय खातों से संबंधित जानकारी को किसी से सांझा करें।

आगे >
पूछें 1800 180 1961/ 1961
Click to ASK
बहुधा पूछे जाने वाले सवाल प्रासंगिक अधिनियम एवं नियम देखने के लिए क्लिक करें

स्थायी खाता संख्या पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

सामान्य पूछे जाने वाले प्रश्न

आय की विवरणी को भरने पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

वेतन आय पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

वरिष्ठ नागरिकों के लिए पूछे जाने वाले प्रश्न

गृह संपत्ति से अर्जित आय पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

पूंजीगत लाभ पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

क्लब्बिंग अॉफ़ इनकम पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

आयकर कानून के तहत हानि की क्षतिपूर्ति और स्थानांतरण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

​आयकर कानून के तहत हानि की क्षतिपूर्ति और स्थानांतरण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न​

कर की गणना पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

आयकर कानून के तहत विभिन्न आकलन पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

गैर निवासियों के लिए उपयोगी प्रावधान पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्न

वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

टीडीएस - केन्द्रीकृत प्रसंस्करण प्रकोष्ठ के पूछे जाने वाले प्रश्न

आयकर इंडिया ई फाइलिंग पोर्टल के पूछे जाने वाले प्रश्न

[वित्त अधिनियम, 2022 तक संशोधित]​
​​

अस्वीकरण:: उपरोक्त अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न केवल सूचना उद्देश्यों के लिए हैं, ताकि जनता को सूचना तक त्वरित और आसान पहुंच प्राप्त हो सके, और कानूनी दस्तावेज होने का तात्पर्य नहीं है। आयकर विभाग इस वेबसाइट में निहित जानकारी, पाठ, ग्राफिक्स, लिंक या अन्य वस्तुओं की सटीकता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है। आयकर विभाग बिना किसी सूचना के किसी भी समय सामग्री, या उसमें वर्णित जानकारी में परिवर्तन कर सकता है। क्या कहा गया है और प्रासंगिक अधिनियम, नियम, विनियम, नीति वक्तव्य, आदि में क्या कहा गया है, के बीच किसी भी भिन्नता के मामले में, बाद वाला मान्य होगा.... और पढ़ें​​​​​