भारत सरकार

वित्त मंत्रालय

राजस्व विभाग

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

 

 

नई दिल्ली, 13 जुलाई, 2022

 

प्रेस विज्ञप्ति

 

आयकर विभाग द्वारा बेंगलूरू में फार्मास्यूटिकल समूह के खिलाफ तलाशी अभियान

 

 

आयकर विभाग द्वारा फार्मास्यूटिकल उत्पादों और एक्टिव फार्मास्यूटिकल इंग्रेडिएंट्स का विनिर्माण और विपणन करने वाले बेंगलूरू के एक प्रमुख फार्मास्यूटिकल समूह के खिलाफ 06.07.2022 को तलाशी और जब्ती अभियान चलाया। यह समूह 50 देशों में कार्यरत है। तलाशी में 9 राज्यों के लगभग 36 ठिकानों को शामिल किया गया है।

तलाशी के दौरान दस्तावेजों और डिजिटल डेटा के रूप में कई महत्वपूर्ण असाक्ष्यपूर्ण प्रमाण मिले जिनको जब्त किया गया है। इन प्रमाणों की प्राथमिक जांच करने पर पता चला कि समूह "बिक्री और संवर्धन" के तहत चिकित्सा पेशेवरों को मुफ्त वितरण के नाम पर अस्वीकार्य व्ययों को अपने बही खातों से कम करता रहा है। इन मुफ्त सेवाओं में "प्रचार और प्रसार", "सेमिनार और संगोष्ठी", "चिकित्सा सलाहकार" आदि शीर्षक के तहत समूह के उत्पादों के प्रचार के लिए चिकित्सकों और चिकित्सा पेशेवरों यात्रा व्यय, रियायत और उपहार आदि शामिल हैं। प्राप्त सबूतों की जांच से पता चला है कि समूह ने अपने उत्पाद/ब्रांड के प्रसार के लिए अनैतिक तरीकों को अपनाया है। ऐसी मुफ्त दी गई चीजों की मात्रा की कीमत लगभग रू. 1,000 करोड़ हो सकती है।

समूह कुछ आयों के संबंध में विशेष प्रावधानों के तहत फर्जी तौर पर बढ़ाई गई कटौती का दावा करता पाया गया जिसमें व्यय को छुपाना और इस प्रकार की कटौती के लिए योग्य यूनिट के लिए सीमा से अधिक राजस्व का उपयोग करना शामिल है। योग्य यूनिटों को अनुसंधान और विकास संबंधी व्यय के अनुपयुक्त आवंटन और धारा 35(2कख) के अंतर्गत भारी कटौती सहित कर की चोरी के अन्य तरीकों का भी पता लगाया गया। ऐसे तरीकों की मदद से बचाए गए कर की कीमत लगभग रू. 300 करोड़ से अधिक हो सकती है।

थर्ड पार्टी बल्क ड्रग विनिर्माओं के साथ किए गए समझौतों के तहत लेनदेनों के संबंध में आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 194ग के अंतर्गत स्त्रोत पर कर कटौती के प्रावधानों के उल्लंघन के प्रमाण की पहचान भी की गई है।

तलाशी के दौरान, रू. 1.20 करोड़ की कीमत की बेहिसाब नकदी और रू. 1.40 करोड़ से अधिक के बेहिसाब स्वर्ण और हीरे के आभूषण को भी जब्त किया गया

आगे की जांचें चल रही हैं।

 

(राकेश गुप्ता)

आयकर आयुक्त

(मीडिया व तकनीकी नीति)

आधिकारिक प्रवक्ता, सीबीडीटी