भारत सरकार

राजस्व विभाग

वित्त मंत्रालय

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

 

नई दिल्ली, 3 फरवरी, 2021

 

प्रेस विज्ञप्ति

आयकर विभाग द्वारा असम में तलाशी अभियान

 

आयकर विभाग की ओर से असम के तीन प्रमुख व्यापारियों के मामले में 29.01.2021 को खोज और सर्वेक्षण अभियान चलाया गया। समूह निर्माण, ठेका और चाय बागानों का व्यापार करता है। जांच और तलाशी अभियान गुवहाटी, दिल्ली, गुरूग्राम, कोलकाता, सिलीगुड़ी अलीपुरद्वार, तेजपुर और नलबारी (असम) में 20 स्थानों पर चलाया गया।

तीनों समूहों के खिलाफ आरोप था कि यह खर्चों को बढ़ाकर दिखा रहे थे और अवास्तविक असुरक्षित ऋण और प्रतिभूति प्रीमियम के रूप में अकोमोडेशन एंट्री ली थी। इन उद्यमों ने नकली खर्चों का दावा करते हुए साल भर अपने शुद्ध लाभ को बढ़ाया और इन पैसों को शेयर प्रीमियम, शेयर कैपिटल और असुरक्षित ऋण के रूप में व्यापार में दुबारा लगाया गया।

तलाशी अभियान के दौरान, लगभग रू. 87 लाख के अस्पष्ट व्यय का वर्णन करते हस्तलिखित नोट्स भी मिले। शेयर कैपिटल और असुरक्षित ऋण के रूप में के फर्जी कंपनियों की ओर से एंट्री और लगभग रू. 100 करोड़ की कीमत के एकीकरण के सबूत भी मिले। इसके साथ ही, वित्त वर्ष की समाप्ति पर व्ययों की नकली बुकिंग के साथ रू. 4.20 करोड़ के नकद बैलेंस में विसंगति दर्शाते हुए डिजिटल प्रमाण भी मिले। रू. 12 करोड़ के नकद बैलेंस के साथ रू. 32 करोड़ को दर्शाते हुए वित्तीय विवरण भी मिले जो नियमित बही खातों से मेल नहीं खाते हैं। सर्वर, कॅम्प्यूटर और फोन के डिजिटल बैक अप को आगे की जांच के लिए जब्त किया गया है जो निर्धारितियों के व्यापार की वास्तविक स्थिति का खुलासा करने में मददगार होंगे।

रू. 42 करोड़ की नकदी को जब्त कर लिया गया है। इन मामलों में कुल छुपाई गई आय रू. 200 करोड़ से अधिक है। 9 बैंक के लॉकर मिले हैं जिनका संचालन अभी भी किया जा रहा है।

आगे की जांच चल रही है।

 

(सुरभि आहलूवालिया)

आयकर आयुक्त

(मीडिया व तकनीकी नीति)

आधिकारिक प्रवक्ता, सीबीडीटी