प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालय, केरल

दूसरा तल, केंद्रीय राजस्व भवन, आई.एस. प्रेस रोड़, कोच्चि-682018

दूरभाष : 0484-2795506/फैक्स : 0484-2397113

फा.सं. Pr.CC-KER/Tech-80/2020-21 दिनांक : 13.01.2021

नोटिस

 

आयकर विभाग केरल की ओर से आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 142(2क) के प्रावधानों के अनुसार अंकेक्षण करने के लिए विशेष लेखा परीक्षकों के तौर पर सूचीकरण हेतु योग्य चार्टेंड अकाउंटेट (चार्टेंड अकाउंटेंट अधिनियम, 1949 के अर्थ के अंतर्गत) से आवेदन आमंत्रित है।

(क) पात्रता शर्तें

  (i) आवेदक को एक प्रतिष्ठित सांझेदार फर्म या मालिकाना व्यापार या एक कंपनी होनी चाहिए जिसका कार्यालय प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त, केरल के प्रादेशिक क्षेत्र के भीतर आना चाहिए और मुख्य रूप से अकाउंटेंसी के पेशे में होना चाहिए जहां कम से कम 2 चार्टेड अकाउंटेट (सांझेदारी फर्म/मालिकाना व्यापार के मामले में सांझेदार/मालिक को छोड़कर) सहित कम से कम 10 कर्मचारी हो (कर्मचारियों की संख्या और सीए की संख्या के दावे के समर्थन में उपयुक्त प्रमाण आवेदन के साथ संलग्न किए जाने हैं और परिशिष्ट-क के तौर पर चिन्हित हों)

 (ii) आवेदक को 31.03.2019 तक कम से कम 10 वर्षों की अवधि का अंकेक्षण संबंधी अनुभव होना चाहिए। (आवेदन के साथ इसका समर्थन करने वाले दस्तावेज लगाए जाने चाहिए और परिशिष्ट-ख के तौर पर चिन्हित हो)

(iii) आवेदक को किसी पेशेवर दुराचार का अरोपी न ठहराया गया हो और चार्टेड अकाउंटेंट इंस्टीट्यूट के पास आवेदक के विरूद्ध चार्टेड अकाउंटेंट अधिनियम, 1949 की धारा 21 के अंतर्गत किसी अनियमितता के लिए कोई शिकायत न की गई हो।

(iv) आवेदक की निर्धारण वर्ष 2019-20 तक की आय की विवरणी नियमित तौर पर दाखिल की होनी चाहिए और पिछले 5 वर्षों के कम से कम 2 वर्षों में कम से कम रू. 20 लाख की कुल विवरणी आय या पिछले पांच वर्षों के दो वर्षों में रू. 1 करोड़ या उससे अधिक की कुल पेशेवर प्राप्तियां होनी चाहिए।

(1) इस संदर्भ में दावे का समर्थन करने वाले प्रमाणों को आवेदन के साथ संलग्न करने की आवश्यकता है और परिशिष्ट-ग के तौर पर चिन्हित किया जाना चाहिए। (2) पैन, आवेदक व्यापार/फर्म और उनके सांझेदारों के निर्धारण अधिकारी का ब्यौरा आवेदन में निर्दिष्ट किया जाना चाहिए)

 (v) आयकर अधिनियम या किसी अन्य विधि के अंतर्गत फर्म या इसके सांझेदार या स्वामित्व उद्यम या कंपनी या इसके निदेशक या प्रबंधक या सैकेटरी के विरूद्ध या किसी अन्य अधिकारी, कोई भी हो सकता है, के विरूद्ध कोई अभियोजन नहीं होना चाहिए

(vi) आवेदक सांझेदारी फर्म या इसके सहभागी या स्वामित्व उद्यम या कंपनी के विरूद्ध आवेदन करने की तिथि पर कोई आयकर देयता शेष नहीं होनी चाहिए

(vii) आवेदक किसी अनैतिक पेशे की प्रैक्टिस में शामिल नहीं होना चाहिए/शामिल नहीं पाया जाना चाहिए

(viii) आवेदक को आवेदन करने की तिथि पर कर से बचने के लिए किसी जांच/पूछताछ का सामना करता नहीं पाया जाना चाहिए

उक्तानुसार वाक्यांश iii, v, vi और vii को पूरा करने के संदर्भ में रू. 100 के स्टांप पेपर के शपथपत्र के रूप में आवेदक द्वारा घोषणापत्र आवेदन के साथ संलग्न किए जाने की आवश्यकता है और परिशिष्ट-घ के तौर पर चिन्हित किया जाना चाहिए

(ix) पैनल नए पैनल गठित करने की प्रभावी तिथि से 2010 में लाए गए पूर्व पैनल को संशोधित और प्रतिस्थापित करेगा

 (x) सीए के सूचीकरण के संबंध में विभाग के निर्णय अंतिम और बाध्यकारी होंगे

(xi) प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त, केरल को किसी भी समय कोई कारण बताए बिना किसी आवेदन को निरस्त करने का अधिकार है।

(ख) नियम और शर्तें :

 (i) किसी विशेष अंकेक्षण हेतु महत्वपूर्ण और उसके व्यय सहित पारिश्रमिक आयकर नियम, 1962 के नियम 14ख के अनुसार मामले-दर-मामले के आधार पर निर्णय लिया जाएगा और विभाग द्वारा भुगतान किया जाएगा

 (ii) सीए का सूचीकरण विभाग के निर्णय के आधार पर किया जाएगा और लिया गया निर्णय अंतिम होगा। उक्त पात्रता के अलावा, आवेदक फर्म या स्वामित्व उद्यम या कंपनी की सामान्य प्रतिष्ठा जिसे विभाग के स्रोत से इकट्ठा किया गया है जिसमें आयकर अधिनियम या किसी अन्य सांविधिक प्राधिकारी के अंतर्गत लगाए गए किसी जुर्माने का तथ्य शामिल है, उसपर विचार किया जाएगा

(iii) आवेदन नोटिस में दिए गए प्रारूप में प्रस्तुत किया जाना चाहिए। कोई आवेदन जो प्रारूप के अनुसार नहीं है, उसपर विचार नहीं किया जाएगा।

उक्त शर्तों को पूरा करने वाली चार्टेड अकाउंटेंट फर्म, स्वामित्व उद्यम और कंपनियां प्रासंगिक ब्यौरों सहित और पात्रता शर्तों को कैसे पूरा किया है को स्पष्ट करने हुए सूचीकरण के लिए अपने आवेदन प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालय, दूसरी मंजिल, सी.आर. भवन, आई.एस. प्रेस रोड़, कोच्चि-18 को आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 142(2क) के अंतर्गत विशेष अंकेक्षण के लिए सूचीकरण हेतु इसके प्रसंस्करण के लिए जमा किया जा सकता है। आवेदन निजी तौर पर या डाक के माध्यम से भेजे जा सकते हैं ताकि नीचे निर्दिष्ट अंतिम तिथि तक प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालय, दूसरी मंजिल, सी.आर. भवन, आई.एस. प्रेस रोड़, कोच्चि-18 के पास पहुंच जाएं।

आवेदक को आवेदन में स्वामित्व उद्यम/सीए फर्म साथ ही साथ इसके सांझेदार/कंपनी साथ ही साथ इसके निदेशकों के संदर्भ में पैन नंबर और आयकर निर्धारण (यानी वार्ड/सर्किल/स्थान) के ब्यौरे निर्दिष्ट करने चाहिए।

आवदेन इस नोटिस के प्रकाशन की तिथि से पंद्रह दिनों के अंदर प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त कार्यालय, दूसरी मंजिल, सी.आर. भवन, आई.एस. प्रेस रोड़, कोच्चि-18 के पास पहुंच जाने चाहिए।

 

(ओमनाकुट्टन)

अपर आयकर आयुक्त (मुख्या.) (तकनीकी)

कृते प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त, केरल

 

 

आवेदन का प्रारूप

 

  1. आवेदक का नाम :

  2. आवेदक का पूर्ण पता :

  3. आवेदक का पैन :

  4. आवेदक के निर्धारण अधिकारी का ब्यौरा :

  5. आवेदक का दूरभाष नंबर और फैक्स नंबर :

  6. आवेदक का वेबसाइट पता और ईमेल आईडी :

  7. आवेदक के सांझेदार/मालिक का ब्यौरा :

  क्र.सं. सांझेदार/मालिक का नाम नाम एओ का ब्यौरा फोन नंबर व ईमेल आईडी
           
           

  8. कर्मचारियों और सीए की संख्या

    i  31.03.2020 तक कुल कर्मचारियों की संख्या

   ii  31.03.2020 तक कम से कम एक वर्ष के लिए निरंतर कार्य करने वाले सीए की संख्या

  उक्त (i) और (ii)के समर्थन में प्रमाण, परिशिष्ट क के तौर पर संलग्न और चिन्हित करें

  9. न्यूनतम अनुभव, अन्य सरकारी विभाग के साथ सूचीकरण और विशिष्ट कार्य और उपयुक्तता के बारे में ब्यौरा

  क) प्रमाण सहित 31.03.2020 तक अकाउंटेंसी और अंकेक्षण अनुभव के वर्षों की संख्या वर्षों की संख्या : संलग्न प्रमाण और इसे परिशिष्ट ख के तौर पर चिन्हित करें
  ख) यदि आवेदक किसी अन्य सरकारी एजेंसी का हिस्सा हुआ हो हां/नहीं
  यदि हां, तो अलग शीट पर ब्यौरा दें और संलग्न करें

(ग) कृपया आयकर विभाग या अन्य किसी केंद्र सरकार के विभाग या कानूनी न्यायालय के लिए अंकेक्षक के तौर पर पहले किए गए शानदार कार्य को इंगित करें

  वर्ष जिसमें अंकेक्षक के तौर पर सूचीबद्ध हुए हों किया गया शानदार कार्य
     

(घ) कृपया अलग शीट पर एक विशेष अंकेक्षक के तौर पर सूचीबद्ध किए जाने के लिए अपनी उपयुक्तता को इंगित करें (500 शब्दों से अधिक नहीं)

10. आवेदक की आय की विवरणी और कुल पेशेवर प्राप्तियों का ब्यौरा :

  क्या आवेदक ने निर्धारण वर्ष 2019-20 तक नियमित तौर पर आय की विवरणी दाखिल की हां/नहीं

यदि हां तो पिछले 5 वर्षों में विवरणी को दाखिल करने का ब्यौरा

निर्धारण वर्ष दाखिलीकरण की तिथि आय की विवरणी
निर्धारण वर्ष 2015-16    
निर्धारण वर्ष 2016-17    
निर्धारण वर्ष 2017-18    
निर्धारण वर्ष 2018-19    
निर्धारण वर्ष 2019-20    

प्रमाणों के साथ पिछले 5 वर्षों में विशेष तौर पर अंकेक्षण और अकाउंटेंसी द्वारा कुल पेशेवर प्राप्तियों की राशि को परिशिष्ट ग के तौर पर चिन्हित किया जाना है

वित्त वर्ष कुल पेशेवर प्राप्तियाँ
  अकाउंटेंसी द्वारा अंकेक्षण द्वारा अकाउंटेंसी और अंकेक्षण द्वारा कुल
2015-16        
2016-17        
2017-18        
2018-19        
2019-20        

11. घोषणा आवेदन के साथ की जानी है और इस नोटिस के वाक्यांश (iii), (iv), (vi) और (viii) को पूरा करने के संदर्भ में परिशिष्ट घ के तौर पर चिन्हित की जानी है।

 

आवेदक की मोहर

 

तिथि :

 

प्राधिकृत व्यक्ति का नाम और हस्ताक्षर

ऐसे व्यक्ति का पद :

 

जांचसूची

 

आवेदकों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी जाती है कि जमा किए जाने वाले आवेदनों को निम्नलिखित ब्यौरों के साथ विधिवत तौर पर भरे जाने चाहिए। अपूर्ण और गलत भरे गए आवेदनों को निरस्त किया जा सकता है :

  •  आवेदक के लैटर हैड पर मुख्य आवेदन

  •  आवेदन के लिए विधिवत तौर पर दाखिल प्रारूप

  •  परिशिष्ट-क कर्मचारियों की संख्या के दावे का समर्थन

  •  परिशिष्ट-ख अनुभव के वर्षों के दावे के समर्थन में

  •  परिशिष्ट -ग-उसमें बताई गई कुल आय के दावे का समर्थन पिछले 5 वर्षों के कम से कम 2 वर्षों में कम से कम 20 लाख या निर्धारित वर्षों के दौरान पिछले पांच वर्षों के दो वर्षों में रू. 1 करोड़ या उससे अधिक की कुल पेशेवर प्राप्तियां होनी चाहिए।

  •  परिशिष्ट-घ - नोटिस के वाक्यांश (iii), (v), (vi) और (viii) को पूरा करने के संदर्भ में स्व घोषणा

 

सभी पृष्ठों को विधिवत तौर पर हस्ताक्षरित और मुहरबंद किया जाना है।