भारत सरकार

राजस्व विभाग

वित्त मंत्रालय

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

 

नई दिल्ली, 15 दिसंबर, 2020

 

प्रेस विज्ञप्ति

 

आयकर विभाग द्वारा पुणे क्षेत्र में तलाशी अभियान

 

आयकर विभाग ने पुणे के पनवेल क्षेत्र में प्रमुख बिल्डरों और एंट्री ऑपरेटरों के मामले में 10.12.2020 को तलाशी और जांच अभियान चलाया। तलाशी और जांच संबंधी कार्यवाहियां पनवेल और वाशी के 29 इलाकों में की गई।

इस तलाशी से कुछ फर्जी कंपनियों के माध्यम से गैर-वास्तविक असुरक्षित ऋणों की अकोमोडेशन एंट्री के रूप में समूह की रियल एस्टेट परियोजनाओं से फ्लैट और भूमि की बिक्री द्वारा राशि के रूप में अर्जित बेहिसाब आय को ठिकाने लगाने से संबंधित भेदभावपूर्ण आंकड़ों का पता चला। तलाशी और सर्वेक्षण कार्रवाई के दौरान समूह के बही खातों में रू. 58 करोड़ के दिए गए ब्याज सहित असुरक्षित ऋणों की ऐसी अकोमोडेशन एंट्री का पता चला। भूमि की खरीद में रू. 5 करोड़ के बेहिसाब व्यय के साथ रू. 10 करोड़ के गैर-वास्तविक उपअनुबंध व्यय का भी पता चला।

आगे, सर्वेक्षण के अंतर्गत शामिल समूह द्वारा, भूमि के समक्ष उधार के तौर पर छुपाए गए समूह द्वारा दिए गए ऋण के समक्ष अर्जित रू. 59 करोड़ की अघोषित ब्याज आय का असाक्ष्यपूर्ण प्रमाण मिले जिनको जब्त किया गया।

एंट्री ऑपरेटरों पर कार्रवाई से, भूमि की खरीद में रू. 5 करोड़ के भेदभावपूर्ण साक्ष्य साथ ही साथ विभिन्न लाभार्थियों को दिए गए लगभग रू. 11 करोड़ की अकोमोडेशन एंट्री का भी भंडाफोड़ किया गया। एंट्री ऑपरेटरों से संबंधित आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है।

इसके अतिरिक्त, विभाग को लगभग रू. 13.93 करोड़ का बेहिबाब/अस्पष्ट नकद भी मिला जिसे जब्त कर लिया गया है। इसलिए, समूह की कुल बेहिसाब आय, अभी तक रू. 163 करोड़ है जिसमें तलाशी और सर्वेक्षण कार्रवाई के दौरान जब्त नकद भी शामिल है। आगे, फ्लैट और भूमि की बिक्री पर कीमत लेकर बही खातों से बाहर किए गए लेनदेन से संबंधित और प्रमाणों को भी जब्त किया जा चुका है।

आगे की जांच चल रही है।

 

(सुरभि आहलूवालिया)

आयकर आयुक्त

(मीडिया व तकनीकी नीति)

आधिकारिक प्रवक्ता, सीबीडीटी