भारत सरकार

राजस्व विभाग

वित्त मंत्रालय

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

 

नई दिल्ली, 29 अक्टूबर, 2020

 

प्रेस विज्ञप्ति

आयकर विभाग द्वारा तमिलनाडू में तलाशी अभियान

आयकर विभाग की ओर से एक सिविल कांट्रेक्टर सहित शैक्षणिक संस्थान चलाने वाले एक समूह और उनके सहायकों के खिलाफ 28.10.2020 को कोयंबटूर, ईरोड, चेन्नई और नामाक्कल स्थित 22 परिसरों में तलाशी अभियान चलाया गया। तलाशी एक सूचना के आधार पर की गई कि विद्यार्थियों से एकत्रित किया गया शुल्क उनके नियमित बही खातों में पूर्णता अंकेक्षित नहीं था।

तलाशी के दौरान मिले प्रमाणों से पता चला कि फीस को छुपाने संबंधी आरोप सही हैं और बेहिसाब प्राप्तियों को न्यासियों के निजी खाते में बेईमानी से डाला गया जिनके बदले उन प्राप्तियों को एक कंपनी के माध्यम से रियल एस्टेट में निवेशित किया गया। कंपनी के अन्य हितधारकों, अर्थात्, तिरूपुर से एक आर्किटेक्ट और एक टेक्सटाइल व्यापारी को भी इसमें शामिल किया गया। तलाशी के दौरान जब्त किए गए इलैक्ट्रानिक उपकरणों की जांच की जा रही है।

नमक्कल से सिविल कांट्रेक्टर के मामले में तलाशी के दौरान मजदूरी शुल्क, सामग्री व्यय आदि के तौर पर नकली व्यय को शामिल करके खर्चों को अधिक दिखाया गया।

तलाशी में लगभग रू. 150 करोड़ तक के बेहिसाब निवेश और पैसे के भुगतान का पता चला। रू. 5 करोड़ की नकद राशि को जब्त किया जा चुका है। कुछ लॉकर अभी भी संचालित किए जा रहे हैं।

तलाशी चल रही है।

 

(सुरभि आहलूवालिया)

आयकर आयुक्त

(मीडिया व तकनीकी नीति)

आधिकारिक प्रवक्ता, सीबीडीटी